Relationship, Trending

इन 5 तस्वीरों को देख कर आप भी समझ जाएंगे, “प्यार अँधा ही नहीं मगर गूंगा बहरा भी होता है”

प्यार एक ऐसा एहसास है जो कभी भी व्यक्ति को बदल सकता है. आज के बदलते समय के साथ साथ हर इंसान की प्यार को लेकर अपनी अलग ही परिभाषा है. इस बात में कोई दो राय नहीं है कि सच्चा प्यार इन्सान की किस्मत बदलने की ताकत रखता है. मगर वहीँ अगर आपका आपके प्यार के साथ कोई तालमेल ना हो तो आप दुनिया की नज़रों में एक मजाक बन जाते हैं. प्यार कभी भी किसी से भी हो सकता है. ये ना तो उम्र देखता है और ना ही शक्ल. कहते हैं जोड़ियाँ भगवान ऊपर से लिख कर पहले से ही भेजता है. मगर कईं बार हमारे स्सामने कुछ ऐसी अजीबो गरीब जोड़ियाँ आ जाती हैं, जिन्हें देख कर हम एक बार सोचने पर मजबूर हो जाते हैं कि भगवान ने इस जोड़ी को आखिर क्या सोच कर बनाया होगा?

बहरहाल, आज के इस आर्टिकल में हम आपके लिए 5 ऐसे प्रेमी जोड़ों की तसवीरें लेकर आये हैं जिन्हें देख कर आपको यकीन हो जाएगा कि “प्यार अँधा ही नहीं बल्कि गूंगा बहरा भी होता है”. तो देर किस बात की? चलिए एक नजर डालते हैं इन अनोखी जोड़ियों पर.

बुड्डी घोड़ी लाल लगाम

अरे बाप रे! आज के बुड्डों की जवानी तो नौजवानों से भी अधिक बढती जा रही है. ऐसा हम नहीं बल्कि, ये तस्वीर खुद कह रही है. आप जो तस्वीर में एक बजुर्ग और सुन्दर कन्या को देख रहे हैं ये रिश्ते में बाप बेटी नहीं बल्कि पति पत्नी है. यकीनन आप भी चौंक गये होंगे. दरअसल, इस तस्वीर में बुजुर्ग इंसान  रूस के अभिनेता इवान ब्रस्को जो कि 84 साल के हैं वहीँ बगल में चल रही खूबसूरत लड़की उनकी बीवी है. उफ़ रे भगवान घोर कलयुग आ गया है.

गोर रंग पर ना इतना गुमान कर

इस तस्वीर को देख कर पुराना गाना याद आ गया “गोर रंग पर ना इतना तू गुमान कर, गोरा रंग तो इक दिन ढल जाएगा”. शायद इस लड़के ने भी लड़की को इम्प्रेस करने के लिए यही गीत गया होगा तभी तो इस लड़की ने बिना कुछ सोचे समझे इस अँधेरी रात से शादी कर ली. अब तो मानना ही पड़ेगा कि प्यार अँधा होता है.

घोर कलयुग है दोस्तों

इस तस्वीर को देख कर आप सोच रहे होंगे कि बहुरानी अपने ससुर का हाथ पकड़ कर घूमने जा रही है. मगर दिल सम्भाल के रखना दोस्तों क्यूंकि, अब आपको थोडा धक्का लगने वाला है. क्यूंकि ये काला आदमी लड़की का ससुर नहीं बल्कि पति है. दरअसल पेशे से ये आदमी एक अमीर बिजनेसमैन है.

एक बार हनीमून हो जाये फिर?

अरे यार ये क्या जमाना आ गया है. इस बुड्डे के पाँव कबर में है और इस महाशय को दोबारा हनीमून मनाने की पड़ी है. संभल कर अंकल जी कहीं ये आपका आखिरी हनीमून ना बन जाए. गुस्ताखी माफ़!

ऐसी भी क्या मजबूरी थी बहना?

अब तो हद ही हो गयी है यार. आखिर इस अबला लड़की की ऐसी भी क्या मज़बूरी रही होगी जो इस मेंडक को हाँ करना पड़ गया इसे. भगवान उठा ले अब मुझे…. ऐसी महान जोड़ियाँ आखिर कैसे बन गई?

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.