Relationship

शादी के बदल जाता है लडको का व्यवहार, आते है ये 8 बड़े बदलाव!

शादी हर इंसान की जिंदगी का एक अहम पडाव है. शादी दो अनजान लोगों को तमाम उम्र के बंधन में बाँध कर रखती है. ऐसे में अपने लिए जीवन साथी चुनना हर इंसान के लिए एक चुनौती बन जाती है. क्यूंकि, आपका एक गलत फैसला आपकी पूरी लाइफ को बर्बाद कर सकता है. इसलिए शादी का फैसला सोच समझ कर और माँ बाप की मर्जी के साथ ही लें. क्यूंकि माँ बाप जिंदगी के हर मुश्किल दौर से गुजर चुके होते हैं ऐसे में वह अपने बच्चों के लिए अच्छा साथी ढूँढने में जी जान लगा देते हैं. बहुत सारे लोगों का कहना है कि शादी का सबसे अधिक प्रभाव लड़कियों पर पड़ता है. क्यूंकि, वह एक घर छोड़ कर दुसरे घर बस जाती है और उन्हें काफी एडजस्टमेंटस करनी पडती हैं और देखा जाए तो ये बात काफी हद तक सही भी है.

परन्तु ये कहना एकदम गलत होगा कि शादी के बाद केवल लड़कियां ही एडजस्ट करती हैं. क्यूंकि, शादी के बाद जितनी एडजस्टमेंट एक लड़की करती है, उससे कहीं गुना ज्यादा लड़के को भी करनी पडती हैं. क्यूंकि शादी के बाद लड़कों पर नए परिवार की जिम्मेदारियों का बोझ बन जाता है. ऐसे में वह समय के साथ साथ खुद में बदलाव लाना शुरू कर देते हैं. आज के इस आर्टिकल में हम आपको लडको में आने वाले 8 ऐसे बदलावों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिन्हें लगभग हर लड़के को शादी के बाद अपने अंदर लाना ही पड़ता है.

जिम्मेदारियों का एहसास

शादी से पहले लड़कों के सर पर कोई चिंता नहीं होती मगर शादी होने के बाद ही उन पर उसे मदारियों का एहसास बढ़ने लगता है. शादी के बाद लड़के पहले से अधिक समझदार और जिम्मेदार बन जाते हैं. या यूं कह लीजिए कि नए रिश्ते की फिक्र के कारण वह अधिक मैच्योर हो जाते हैं.

शेयरिंग सीख लेते हैं

शादी से पहले हर लड़का अकेले रह कर और आजाद रहकर खुश होता है. अकेले रहने का भी अपना ही एक अलग मजा होता है. परंतु शादी के बाद लड़कों की आजादी पहले से काफी कम हो जाती है और उनकी खुद की पर्सनल लाइफ खत्म हो जाती है. शादी के बाद लड़के हर छोटी बड़ी चीज अपने पार्टनर से शेयर करने लगते हैं ताकि उनका दुख सुख अपनी फैमिली के साथ बंट कर कम हो जाए.

सोशली एक्टिव हो जाते हैं

शादी केवल 2 लोगों का ही नहीं बल्कि दो परिवारों का मिलन होता है ऐसे में कई नए और नाजुक रिश्ते हमसे जुड़ जाते हैं. ऐसे में जो लड़की शादी से पहले एकांत में रहना पसंद करते हैं उनके लिए सोशली एक्टिव होना सबसे बड़ी चुनौती बन जाता है.

पहले से अधिक केयरिंग हो जाते हैं

शादी से पहले लड़के काफी केयरलेस होते हैं वह खुद का ख्याल ढंग से नहीं रख पाते तो दूसरों को उनसे कोई उम्मीद करना ही बेकार की बात होती है. परंतु शादी के बाद लड़के काफी जिम्मेदार हो जाते हैं और अपनी बेवकूफियों को दूर करने में जुट जाते हैं. साथ ही वह अपने पार्टनर का खुद से भी ज्यादा ख्याल रखने लगते हैं.

तालमेल बनाना पड़ता है

शादी के बाद लड़कों को अपने साथी को उचित समय देना पड़ता है. पत्नी के आने के बाद समय निकालना उनके लिए और भी कठिन हो जाता है मगर ऐसे में रिश्तो के बीच तालमेल बिठाना लड़कों को बखूबी आ जाता है.

छूट जाती हैं सारी मस्तियां

शादी के बाद लड़कों की अपनी पर्सनल लाइफ लगभग खत्म हो जाती है. मैं अपनी हर पसंद-नापसंद को छोड़कर पहली प्राथमिकता अपने लाइफ पार्टनर को देते हैं.

करना पड़ता है समझोता

लड़कों के खुद के काफी सारे शौक होते हैं. वैसे मैं शादी के बाद जिम्मेदारियों के कारण मैं खुद को समय नहीं दे पाते ना ही अपने सपनों को पूरा कर पाते हैं. यू मान लीजिए कि हर लड़का शादी के बाद खुद से एक समझौता कर लेता है.

भविष्य को लेकर सीरियस हो जाते हैं

शादी से पहले लड़कों को भविष्य तो दूर बल्कि वर्तमान समय की भी अहमियत नहीं होती. मगर शादी के बाद वह अपने पार्टनर को संतुष्ट एवं सुरक्षित रखने के लिए अपने भविष्य को लेकर काफी सतर्क हो जाते हैं.

Source

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.