Girls, Viral

एडल्ट फिल्मों को देख कर लड़कियों में आते है ये बदलाव, जानकर हैरान रह जाएंगे आप!

बदलते समय के साथ साथ आज की युवा पीढ़ी में भी काफी बदलाव देखने को मिल रहे हैं. स्मार्टफोन की इस दुनिया में आजकल के युवायों को फिल्में देखने का काफी क्रेज है. ऐसे में अगर बात पोर्न मूवीज की करें तो ये फिल्में भारत में इन दिनों सबसे अधिक देखि जाने वाली फिल्में बन चुकी हैं. केवल लड़के ही नहीं बल्कि, लड़कियां भी अपना अकेलापन दूर करने के लिए इन फिल्मों को देख्नना पसंद करती हैं. इस बात में कोई दो राय नहीं है कि पोर्न मूवीज देखने में काफी दिलचस्प लगती हैं मगर हकीक़त में इन फिल्मों के देखने के परिणाम भी उतने ही अधिक बुरे हैं.  हाल ही में की गई एक रिसर्च के मुताबिक़ भारतीय महलाएं बाकी देशों की महिलायों से कई गुना ज्यादा इन मूवीज को देखना पसंद करती हैं.  इस शोध के अनुसार भारत देश की लगभग 30 फीसदी औरतें एडल्ट फिल्मों की फैन हैं. आपको ये जानकर हैरानी होगी कि जो लड़कियां नियमित रूप से ये फिल्में देखती हैं, उनपर इन फिल्मों का गहरा प्रभाव पड़ता है.

डॉक्टर अल्बर्ट के अनुसार इन फिल्मों का ना केवल मर्दों के दिमाग पर बल्कि, औरतों के दिमाग पर भी उतना ही असर पड़ता है. इन फिल्मों के कारण लड़कियों को नकारात्मक स्तिथियों से गुजरना पड़ता है. आज हम आपको कुछ ऐसे ही बुरे प्रभावों के बारे में बताने जा रहे हैं, जो लड़कियों को एडल्ट फिल्मों के कारण फेस करने पड़ रहे हैं.

संबंध बनाने की उतेजना

अश्लील फिल्मों को देखने का सबसे पहला प्रभाव संबंध बनाने की लत है. अश्लील फिल्में इंसान के यौन उत्तेजना और कामवासना को बढ़ावा देती हैं. धीरे-धीरे लड़कियां इन चीजों की आदी हो सकती हैं. एडल्ट फिल्में इंसान के दिमाग पर रोमांचक और पावरफुल इमेजेस प्रदान करती हैं जिसकी कल्पना करने के लिए लड़कियां किसी भी हद को पार करने में चूक महसूस नहीं करती. इन आदतों के कारण कई बार वह तलाक और परिवार को नुकसान या किसी कानूनी समस्या में फंस जाती हैं.

मस्तिष्क पर पड़ता है गहरा असर

एडल्ट फिल्मों का असर ना केवल लड़कों बल्कि लड़कियों के मस्तिष्क पर भी पड़ता है. डॉक्टरों द्वारा की गई एक रिसर्च के अनुसार जो लोग इस प्रकार की वीडियोस अधिक देखते हैं, उनके दिमाग की रचनात्मक शक्ति धीरे-धीरे कमजोर पड़ने लगती है. साथ ही उन लोगों की याददाश्त होने की समस्या बनी रहती है. क्योंकि नियमित रूप से एडल्ट फिल्में देखने के कारण दिमाग की मांसपेशियां शिथिल हो जाती है और सिकुड़ जाती हैं.

अवैध संबंधों को बढ़ावा

इन फिल्मों को देखने के बाद लड़कियां किसी गैर व्यक्ति के साथ अवैध संबंध बनाने को बुरा नहीं मानती. मगर इस प्रकार के संबंध बनाना ना केवल उन लड़कियों के लिए बल्कि समाज के लिए भी नुकसानदायक सिद्ध होते हैं. अपनी कामवासना पर काबू ना रख पाने के कारण में अक्सर गलत संगत में पड़ जाती हैं.

समाज से अलगाव

रिसर्च के अनुसार भारत देश में सबसे अधिक पोर्न मूवीस देखी जाती हैं. हालांकि देश के युवा आज भी इन फिल्मों को छुपकर यानी अकेले में ही देखते हैं. इसलिए जब कभी लड़कियों को इस प्रकार की लत लग जाती है तो वह अपनों से और समाज से दूरी बनाना शुरु कर देती है. भले लड़कियों को लेकर समाज अपनी सोच बदल रहा है लेकिन पोर्न देखने की बात समाज को बिल्कुल पचती नहीं हैं.

Source

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.